रविवार, 29 जुलाई 2012

हैरानियाँ

भला क्यूँ मुकद्दर पे हैरानियाँ हों
सदा आसमानी ही जब यारियाँ हों

बड़ी हों या छोटी रुलाया सभी ने
कभी तो ख़तम सारी मजबूरियाँ हों

न जाने क्या थे फ़लसफ़े उस शजर के
लगा झुक रहीं शर्म से टहनियाँ हों

कहो राब्ता रख के क्या होगा हासिल
नहीं जो वफ़ा के सिले दरमियाँ हों

2 टिप्‍पणियां:

  1. कहो राब्ता रख के क्या होगा हासिल
    नहीं जो वफ़ा के सिले दरमियाँ हों

    अच्छा शेर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह क्या शे'र है
    न जाने क्या थे फ़लसफ़े उस शजर के
    लगा झुक रहीं शर्म से टहनियाँ हों


    --- शायद आपको पसंद आये ---
    1. DISQUS 2012 और Blogger की जुगलबंदी
    2. न मंज़िल हूँ न मंज़िल आशना हूँ
    3. गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं